Last Update - 18 Oct 2020

Happy Navratri Image and Quotes SMS Hindi & English

Happy Navratri Image and Quotes SMS Hindi & English

नवरात्रि का पर्व इस वर्ष 17 अक्टूबर 2020 से 25 अक्टूबर 2020 तक मनाया जाएगा।नवरात्रि का पर्व 17 अक्टूबर 2020 से आरंभ होगा। इस वर्ष अधिक मास लग जाने के कारण ऐसा हो रहा है। इस बार नवरात्रि पर विशेष संयोग बन रहे हैं।

नवरात्रि का पर्व 17 अक्टूबर 2020 से शुरू होगा। हिंदू पंचांग के अनुसार ऐसा संयोग 19 साल बाद बन रहा है। इससे पहले वर्ष 2001 में भी हुआ था। पंचांग के अनुसार आश्विन मास की अमावस्या तिथि यानी सर्व पितृ अमावस्या के दिन महालया मनाई जाती है।

महालया अमावस्या की खत्म होने के बाद शारदीय नवरात्रि शुरू हो जाते हैं, लेकिन इस बार ऐसा नहीं है। महालया के दिन मां दुर्गा से पृथ्वी पर आने की प्रार्थना की जाती है। इस वर्ष अधिक मास यानि मलमास के कारण ये एक माह बाद यानि 17 अक्टूबर को आएगा।

माँ दुर्गा के नौ रूप कौन-कौन से हैं

माँ के रूप

1. माँ शैलपुत्री

2. माँ ब्रह्मचारिणी

3. माँ चंद्रघण्टा

4. माँ कूष्मांडा

5. माँ स्कंद माता

6. माँ कात्यायनी

7. माँ कालरात्रि

8. माँ महागौरी

9. माँ सिद्धिदात्री

नवरात्रि पर्व का महत्व

यदि हम नवरात्रि शब्द का संधि विच्छेद करें तो ज्ञात होता है कि यह दो शब्दों के योग से बना है जिसमें पहला शब्द ‘नव’ और दूसरा शब्द ‘रात्रि’ है जिसका अर्थ है नौ रातें। नवरात्रि पर्व मुख्य रूप से भारत के उत्तरी राज्यों के अलावा गुजरात और पश्चिम बंगाल में बड़ी धूम-धाम के साथ मनाया जाता है।

इस अवसर पर माँ के भक्त उनका आशीर्वाद पाने के लिए नौ दिनों का उपवास रखते हैं। इस दौरान शराब, मांस, प्याज, लहसुन आदि चीज़ों का परहेज़ किया जाता है। नौ दिनों के बाद दसवें दिन व्रत पारण किया जाता है। नवरात्र के दसवें दिन को विजयादशमी या दशहरा के नाम से जाना जाता है। कहते हैं कि इसी दिन भगवान श्री राम ने रावण का वध करके लंका पर विजय पायी थी।

नवरात्रि के लिए पूजा सामग्री

माँ दुर्गा की प्रतिमा अथवा चित्र, लाल चुनरी, आम की पत्तियाँ, चावल, दुर्गा सप्तशती की किताब, लाल कलावा, गंगा जल ,चंदन, नारियल, कपूर, जौ के बीज, मिट्टी का बर्तन, गुलाल, सुपारी, पान के पत्ते, लौंग, इलायची

नवरात्रि पूजा विधि

आइये जानते है नवरात ब्रत पूजा करने की पूरी विधि

  • सुबह जल्दी उठें और स्नान करने के बाद स्वच्छ कपड़े पहनें
  • ऊपर दी गई पूजा सामग्री को एकत्रित करें
  • पूजा की थाल सजाएँ
  • माँ दर्गा की प्रतिमा को लाल रंग के वस्त्र में रखें
  • मिट्टी के बर्तन में जौ के बीज बोयें और नवमी तक प्रति दिन पानी का छिड़काव करें
  • पूर्ण विधि के अनुसार शुभ मुहूर्त में कलश को स्थापित करें। इसमें पहले कलश को गंगा जल से भरें, उसके मुख पर आम की पत्तियाँ लगाएं और उपर नारियल रखें। कलश को लाल कपड़े से लपेंटे और कलावा के माध्यम से उसे बाँधें। अब इसे मिट्टी के बर्तन के पास रख दें
  • फूल, कपूर, अगरबत्ती, ज्योत के साथ पंचोपचार पूजा करें
  • नौ दिनों तक माँ दुर्गा से संबंधित मंत्र का जाप करें और माता का स्वागत कर उनसे सुख-समृद्धि की कामना करें
  • अष्टमी या नवमी को दुर्गा पूजा के बाद नौ कन्याओं का पूजन करें और उन्हें तरह-तरह के व्यंजनों (पूड़ी, चना, हलवा) का भोग लगाएं
  • आखिरी दिन दुर्गा के पूजा के बाद घट विसर्जन करें इसमें माँ की आरती गाएं, उन्हें फूल, चावल चढ़ाएं और बेदी से कलश को उठाएं

दुर्गा माता की आरती

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी,
तुमको निशदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवजी।

मांग सिंदूर विराजत, टीको मृगमद को,
उज्ज्वल से दोउ नैना, चंद्रवदन नीको॥ ॥ॐ जय अम्बे गौरी...॥

कनक समान कलेवर, रक्ताम्बर राजै,
रक्तपुष्प गल माला, कंठन पर साजै॥ ॥ॐ जय अम्बे गौरी...॥

केहरि वाहन राजत, खड्ग खप्पर धारी,
सुर-नर-मुनिजन सेवत, तिनके दुखहारी॥ ॥ॐ जय अम्बे गौरी...॥

कानन कुण्डल शोभित, नासाग्रे मोती,
कोटिक चंद्र दिवाकर, सम राजत ज्योती॥ ॥ॐ जय अम्बे गौरी...॥

शुंभ-निशुंभ बिदारे, महिषासुर घाती,
धूम्र विलोचन नैना, निशदिन मदमाती॥ ॥ॐ जय अम्बे गौरी...॥

चण्ड-मुण्ड संहारे, शोणित बीज हरे,
मधु-कैटभ दोउ मारे, सुर भयहीन करे॥ ॥ॐ जय अम्बे गौरी...॥

ब्रह्माणी, रूद्राणी, तुम कमला रानी,
आगम निगम बखानी, तुम शिव पटरानी॥ ॥ॐ जय अम्बे गौरी...॥

चौंसठ योगिनी मंगल गावत, नृत्य करत भैरों,
बाजत ताल मृदंगा, अरू बाजत डमरू॥ ॥ॐ जय अम्बे गौरी...॥

तुम ही जग की माता, तुम ही हो भरता,
भक्तन की दुख हरता, सुख संपति करता॥ ॥ॐ जय अम्बे गौरी...॥

भुजा चार अति शोभित, खडग खप्पर धारी,
मनवांछित फल पावत, सेवत नर नारी॥ ॥ॐ जय अम्बे गौरी...॥

जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी,
तुमको निशदिन ध्यावत, हरि ब्रह्मा शिवजी। ॥ॐ जय अम्बे गौरी...॥

कंचन थाल विराजत, अगर कपूर बाती,
श्रीमालकेतु में राजत, कोटि रतन ज्योती॥ ॥ॐ जय अम्बे गौरी...॥

श्री अंबेजी की आरति, जो कोइ नर गावे,
कहत शिवानंद स्वामी, सुख-संपति पावे॥ ॥ॐ जय अम्बे गौरी...॥

नवरात्री मैसेज और फोटो

सर्वमंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके, 
शरण्ये त्रयम्बके गौरी नारायणी नमोस्तुते !
Happy Navratri 


या देवी सर्वभूतेषु मातृरूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम: ।
Happy Navratri


रूठी है तो मना लेंगे,
पास अपने उसे बुला लेंगे,
मैया है वो दिल की भोली,
बातों में उसे लगा लेंगे,
Navratri ki shubhkamnaye


सजा हे दरबार, एक ज्योति जगमगाई है,
सुना हे नवरात्रि का त्योहार आया हैं,
वो देखो मंदिर में मेरी माता मुस्करायी है…
जय माँ दुर्गा..


जगत पालनहार है माँ,
मुक्ति का धाम है माँ,
हमारी भक्ति का आधार है माँ,
सबकी रक्षा की अवतार है माँ..!


लाल रंग की चुनरी से सजा माँ का दरबार,
हर्षित हुआ मन, पुलकित हुआ संसार,
नन्हें-नन्हें कदमों से माँ आयें आपके द्वार।
जय माता दी।
हैप्पी नवरात्रि 2020


माता तेरे चरणों मे
भेंट हम चढ़ाते हैं।
कभी नारियल तो
कभी फूल चढ़ाते हैं।
और झोलियाँ भर भर के
तेरे दर से लाते हैं।
हैप्पी नवरात्रि


नव दीप जले,
नव फूल खिले,
नित नयी बहार मिले,
नवरात्रि के इस पावन पर्व पर
आपको माता रानी का आशीर्वाद मिले।
हैप्पी नवरात्रि 2020


निकल न जाए हाथ से
तेरे मौका ये अनमोल,
जय माता दी बोल बंदे
जय माता दी बोल।
जय माता दी।
शुभ नवरात्रि 2020


माँ लक्ष्मी का हाथ हो,
सरस्वती का साथ हो,
गणेश का निवास हो,
और माँ दुर्गा के आशीर्वाद से,
आपके जीवन में प्रकाश ही प्रकाश हो
जय माता दी।


देवी के कदम आपके घर में आएं,
आप खुशहाली से नहाएं,
परेशानिया आपसे आँखे चुराएं,
नवरात्री की आपको शुभ कामनाएं
। जय माता दी।


माँ लक्ष्मी का हाथ हो,
सरस्वती का साथ हो,
गणेश का निवास हो,
और माँ दुर्गा के आशीर्वाद से,
आपके जीवन में प्रकाश ही प्रकाश हो
जय माता दी।


हमको था इंतजार वो घड़ी आ गई,
होकर सिंह पर सवार माता रानी आ गई,
होगी अब मन की हर मुराद पूरी,
हरने सारे दुख माता अपने द्वार आ गई।
जय माता दी।


माता के नौ रूपों में है छिपा सृष्टि का सार,
जग में है नवदुर्गा की महिमा अपरम्पार,
ज्ञान बढ़ाए, विवेक बढ़ाए, बांटे सबको प्यार,
तीन लोक में होती है माता की जयकार।
नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें।।


पग पग में फूल खिले,
ख़ुशी आप सबको इतनी मिले,
कभी न हो दुखों का सामना,
यही है नवरात्री की शुभकामना।
।। जय माता दी ।।


बहुत दूर अभी जाना है,
चिंतन का दामन थामा है !
क्यों डरु इस बेहरुपी ज़माने से,
जब मेरी माँ ने मुझे अपना माना है !!
जय माता दी


जिंदगी की हर तमन्ना हो पूरी,
आपकी कोई आरजू अधूरी न हो !
करते है हाथ जोड़कर माँ दुर्गा से विनती,
आपकी हर मनोकामना हो पूरी !!
नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें


हे माँ तुमसे विश्वास ना उठने देना,
तेरी दुनिया में भय से जब सिमट जाऊं !
चारो ओर अँधेरा ही अँधेरा घना पाऊं,
बन के रोशनी तुम राह दिखा देना !!
Happy Navratri


जब जब याद किया तुझे ए माँ,
तूने अपने आँचल में आसरा दिया !
कलयुगी इस जहां में,
एक तूने ही सहारा दिया !!
happy navratri everyone


सारा जहान है जिसकी शरण में,
नमन है उस माँ के चरण में !
हम हैं उस माँ के चरणों की धूल,
आओ मिलकर माँ को चढ़ाएं श्रद्धा के फूल !!
जय माता दी


You are reading navratri shayari in english shayari for navratri in english navratri ki shayari happy navratri love shayari latest navratri shayari navratri mubarak shayari navratri mata shayari navratri sher o shayari navratri special shayari in english.

Shardiya Navratri is also called Mahanavratri or Durgashtami. Different forms of Maa Durga are worshiped on the occasion of Durgashtami. On this auspicious occasion of Navratri, everyone wishes to congratulate in a special way.

You can congratulate navratri 2020 shayari navratri shayari english mai navratri shayari hindi english 2020 navratri best shayari sms message quotes status navratri shayari facebook navratri shayari whatsapp navratri shayari 2 lines shayari of navratri special given here.

Maata Ke Nau Roopon Mein Chhipa Srishti Ka Saar,
Jag Mein Hai NavDurga Ki Mahima Aparmpaar,
Gyaan Barhaaye, Vivek Barhaaye, Baante Sabko Pyar,
Teen Lok Mein Hoti Hai Maata Ki Jaykaar.
Happy Navratri


Ruthi Hai To Mana Lenge,
Pas Apane Use Bula Lenge !
Maiya Hai Dil Ki Badi Bholi,
Bato Me Use Lage Lenge !!
durga mata ji


Maa Ki Jyoti Se Prem Milata Hai,
Sabake Dilo Ko Maraham Milata Hai !
Jo Bhi Jata Hai Maa Ke Dwar,
Uase Kuch Na Kuch Jarur Milata Hai !!
beautiful navratri


Lal Rang Ki Chunari Se Saja Maa Ka Darbar,
Harshit Hua Man Pulakit Hua Sansar !
Nanhe-Nanhe Kadamo Se Maa Aaye Aapke Dwar,
Ias Navratri Yahi Hai Maa Se Pukar
Happy Navratri


Sara Jahan Hai Jiski Sharan Mein,
Naman Hai Us Mata K Charan Mein,
Banein Us Mata Ke Charano Ki Dhool,
Aao Mil Kar Charhaye Shraddha Ke Phool!
!! Jai Mata Di !!


Pag-Pag Mein Phool Khile,
Khushi Aap Sabko Itni Mile,
Kabhi Na Ho Dukhon Ka Samna,
Yahi Hai Navratri Ki Subhkamna.
!! Jai Mata Di !!


Mata Rani Vardan Na Dena Hame,
Ho Sake To Thoda Sa Pyar De Dena !
Tere Charano Me Bite Ye Jivan Sara,
Eak Bas Yahi Aashirwad De Dena !!
Jay Mata Di Jay Maa Durga


Chand ki chandani Basant ki bahar,
Phoolo ki khushbu Apno ka pyar !
Mubarak ho aapko NAVRATRI ka Tyohar,
Sada khush Rahe Aap Aur Apka Parivar !!
navratri ki badhai


Jindagi Ki Har Tamana Ho Puri,
Aapki Koi Aarju Rahe Na Adhuri !
Karte Hai Hath Jodkar Maa Durga Se Winti,
Aapki Har Manokamna Ho Puri !
Happy Navratri.


Puri duniya hai jiski charan me,
shradhdha hai uski charan me !
Puri duniya jise maa kahke pukarte hai,
Hume naman hai us maa ki charan me !!
happy navratri


N = Nav Chetna
A = Akhand Jyoti
V = Vighna Nashak
R = Ratjageshwari
A = Anand Dayi
T = Trikal Darshi
R = Rakhan Karti
A = Anand Mayi Maa
May Nav Durga bless you always.


Feast and have fun
The dandiya raas has begun
Maa is blessing us through
A very Happy Navratri to you.
Happy Navratri 


May this Navratri brighten up your life
With joy, wealth, and good health.
Wishing you a happy Navratri.
Happy Navratri


May maa durga empower
You and your family
With her nine swaroopa of name
Fame, Health, Wealth, Happiness,
Humanity, Education, Bhakti & Shakti
Happy Navratra


May This Navratri be as splendid as ever.
May this Navratri move joy,
Illness as well as resources to you.
May a legal holiday of lights lighten up we as well as
your nearby as well as dear ones lives.
Happy Navratri


May the brightness of Navratri
Fill your days with cheer
May all your dreams come true
During Navratri and all through the year


Did you find this page helpful? X